Loading...
Interact, create, share, collaborate and learn on Library Junction.
Tue 20 Jul 2010 21:10:12 | 0 comments
जीस्त१ में नक़्श-ए-वफ़ा२ नक़्श-ए-सुवैदा३ ही रहा,
फिक़्र में दर्द-ए-दवा महज़ वो जुनूँ-जौला४ ही रहा!
होने को हो भी गया जो भी होना था वो लिखा,
होने ने तमाम किया होना आख़िर होना ही रहा!
ज़िक्र-ए-अन्द्दोह-ए-वफ़ा५ कर दिया कशाकश६ दुरुस्त,
दहर७में कोहकंन८ सरगश्त:-ए-खुमार-ए-रूसूम-ओ-क़ुयूद९ ही रहा!
हाकिम की पूरकारी१० है जो रह्बर भी दुश्मन है बना,
ईबादत खाने में हमेशा नाशेह से रूसवा ही रहा!
मौत जो आ भी गया महरबा करेंगे जुरूर,
ऐसे भी ख्वाहिशों से 'रंजन' महरूम ही रहा!
___

Comments




or

Latest Activity

posted a new blog entry Elevating the Self: A Book on Values.
22 months ago
posted a new blog entry KV Pattom Library launches 'Read my Buddy'.
3 years ago
posted a new blog entry HARRYPOTTER ..................
5 years ago
posted a new blog entry Harry potter.
5 years ago
posted a new blog entry greetings.
5 years ago

Share

Powered by

Videos

LIKE SISTERS : Award winning short film on Child Marriage
KOMAL - A film on Child Sexual Abuse (CSA) - Hindi
Read my Buddy: Collaborative Peer Reading Programme (Project Highlights)

Events

There is no upcoming event!